स्लेट-कलम की जगह भिक्षा पात्र

शासन के लाख प्रयासों के बाबजूद जिले में बाल श्रमिकों से बैखोफ काम लिया जा रहा है,जबकि कई नन्हें मुन्ने बच्चे स्कूल छोडकर हाथों में शनि महाराज की बाल्टी एवं देवी देवताओं के चित्र रखकर भीख मांगते देखे जा सकते हैं |