बच्चे को पीटा तो खैर नहीं

स्कूल में बच्चों को पीटना या मानसिक रूप से प्रताड़ित करना अब शिक्षकों को महंगा पड़ सकता है | अगर गलती से भी उन्होंने बच्चे को किसी प्रकार का शरीरिक-मानसिक दंड दिया तो बच्चे के पास यह अधिकार होगा कि वह उनकी शिकायत आला अफसरों को कर सके | राज्य शिक्षा केन्द्र ने इस दिशा में प्रदेश के सभी जिलों के जिला शिक्षा अधिकारियों को यह निर्देश दिए हैं कि वे स्कूलों में शिकायत पेटी लगवाएं |