कुपोषण रोकने नहीं मानी आयोग की सिफारिश

यदि सरकार ने मानवाधिकार आयोग की सिफारिसे मान ली  होती तो आज प्रदेश में कुपोषण की स्थिति खराब नहीं होती!